Saturday, November 26, 2022

Latest Posts

पति की मौत की खबर मिलते ही पत्नी की सांसें भी थम गईं, उसी चिता पर किया अंतिम संस्कार

राजस्थान की राजधानी जयपुर के पास

चौमूं पुलिस थाना इलाके में बुजुर्ग दंपती साथ जिए और साथ ही दुनिया छोड़ दी.दोनों का एक ही चिता पर अंतिम संस्कार किया गया.पति-पत्नी का एक साथ दुनिया से रुखसत होना क्षेत्र में चर्चा का विषय रहा.जानकारी के अनुसार चौमूं के देवथला के ब्राह्मण मोहल्ले में रविवार सुबह तबीयत खराब होने से 85 वर्षीय सीताराम शर्मा की मौत हो गई थी.पति के निधन के सदमे में 20 मिनट बाद ही पत्नी 83 वर्षीय भंवरी देवी की भी मौत हो गई.

गांव के लोग बताते हैं कि सीताराम शर्मा पहले टाटानगर में काम करते थे और अपने परिवार का भरण पोषण करते थे. लेकिन वृद्धावस्था होने के बाद से गांव में ही रहने लगे थे.ग्रामीणों ने पति-पत्नी के प्रेम की तारीफ करते हुए कहा कि दोनों ही एक-दूसरे का ध्यान रखते थे.दंपती का स्वभाव भी मिलनसार था.देवथला गांव निवासी सीताराम शर्मा का विवाह इटावा भोपजी स्थित गोठवालों की ढाणी निवासी भंवरी देवी शर्मा के साथ करीब 60 वर्ष पहले हुआ था.सीताराम शर्मा और भंवरी देवी के चार बेटे और दो बेटियां है, जिनमें दो बेटे अविवाहित हैं.

‘पति-पत्नी के बीच का रिश्ता ऐसा होता है कि

वह एक-दूसरे की भावनाएं बिना कहे ही समझ जाते हैं. यह बात वास्तविक कम और काल्पनिक ज्यादा सुनाई पड़ती है.ऐसा इसलिए क्योंकि पति खुद इस बात की शिकायत करते दिख जाते हैं कि उनकी पत्नियां उम्मीद करती हैं कि उनके कहे बगैर वह बातों को समझ जाएं जो उन्हें फ्रस्टेट कर देता है.अगर आप भी ऐसे ही एक पति हैं. तो हम आपकी यह जानने में थोड़ी बहुत मदद तो कर ही सकते हैं कि कौन सी ऐसी बातें या स्थितियां हैं. जिन्हें लेकर हर पत्नी उम्मीद करती है कि उनका पति बिना कहे उन्हें समझ जाए.


शादी के बाद पति-पत्नी एक-दूसरे के सपोर्ट सिस्टम के रूप में काम करते हैं

अगर इनमें से एक भी अपना कॉन्ट्रिब्यूशन कम रखे तो दूसरे के लिए परेशानी आना तय है.पत्नी उम्मीद करती है कि इमोशनल और अन्य फ्रंट पर पति उसका साथ दे.उदाहरण के लिए कई महिलाओं को परिवार को आगे नहीं बढ़ाने शादी के बाद भी करियर पर ध्यान देने रिश्तेदारों के बीच ज्यादा ऐक्टिव न रहने जैसी चीजों को लेकर इनडायरेक्ट ताने मारे जाते हैं.

इस स्थिति में महिला शांति बनाए रखने के लिए

उन्हें इग्नोर करती है.लेकिन यह उन्हें मानसिक रूप से बुरी तरह प्रभावित करता है.अगर इस सिचुएशन में पति बीच में आकर पत्नी को सपोर्ट करे, तो न सिर्फ रिश्तेदारों की बोलती बंद हो जाएगी बल्कि वह भविष्य में भी ऐसी बातें कहने से बचेंगे.साथ ही पत्नी को अपना आत्मसम्मान कायम रखने में भी मदद मिलेगी.

Latest Posts

Don't Miss