Sunday, November 27, 2022

Latest Posts

कोलकता हाईकोर्ट का अजीबोगरीब फैंसला 22 साल के रे’प आरोपी को किया बाइज्जत बरी,16 साल की लड़की के पैरेंट्स ने लगाया आरोप

देश में अनेक ऐसे मामले हमें देखने को मिलते है जहाँ पर रे’प के आरोपी को सजा सुनाई जा रही है कुछ लोगों को तो फांसी तक की सजा सुनाई गई है लेकिन कोलकता हाईकोर्ट ने एक लड़के को इज्जत के साथ बरी किया है।

आइये जानते है इस मामले को पूरी तरह से ताकि हमें भी तो पता चले की हमारे पास यानि लड़कों के पास कौन-कौनसे राईट होते है चूँकि अधूरी जानकारी के चलते हम डर जाते है लेकिन हमारे पास यह हक भी है आज पता चल जायेगा –

16 साल की लड़की के घर वालों ने लगाया आरोप


एक 22 साल के लड़के पर आरोप लगा की उसने एक सोलह साल की लड़की के साथ गलत किया है। पुलिस ने लड़के को गिरफ्तार किया, और छोटी कोर्ट ने उसे सजा भी सूना दी। लेकिन लड़के के पैरेंटस ने हाईकोर्ट में अपील डाल दी।

Via istockphoto

कोर्ट में लड़के के बारें में पूरी तरह से जांच करी गई और लड़के ने स्वीकार किया की लड़की की रजामंदी से सब कुछ हुआ है। ऐसे में कोर्ट ने एक ऐसा फैसला सुनाया जो हैरान करने वाला हो सकता है।

कोर्ट ने लड़के को बरी कर दिया

कोलकता हाईकोर्ट के अनुसार लड़के और लड़की दोनों की रजामंदी से यह सब हुआ है ऐसे में हम लड़के पर दबाव नहीं बना सकते है की वह उससे शादी करें। चूँकि दोनों की रजामंदी से हुआ है तो सजा अकेले लड़के को ही क्यों क्योंकि उसका शरीर लड़की से भिन्न है इसलिए।

ऐसे में जब लड़की को भी सजा मिलने की बात आई तो पैरेंट्स ने कोर्ट का कहा माना और लड़के को बाइज्जत बरी कर दिया गया। यह फैसला काफी यूनिक था लेकिन कोर्ट ने बताया की यह पोस्को एक्ट 2012 के तहत लिया गया फैसला है।

लड़के का पूरा भविष्य हो जाता खराब

लड़के के पैरेंट्स के अनुसार अगर लड़के को सजा मिल जाती तो वह पूरी जिंदगी के लिए खराब हो जाता उसका भविष्य खत्म हो जाता और वह आगे जाकर कोई क्रिमिनिल बनता लेकिन कोर्ट ने बहुत अच्छा फैसला किया और न्याय को देखते हुए हम काफी खुश है।

ऐसी ही आस-पास की खबरों के लिए हमें फॉलो करें ताकि आपको ऐसी जानकारी हम रोज देते रहें और ऐसी ज्ञानवर्धक जानकारी के लिए फॉलो और शेयर तो बनता है तो शुरू हो जाइए और पोस्ट शेयर करें।

Latest Posts

Don't Miss