Thursday, December 1, 2022

Latest Posts

कभी-कभी दीवारों के कान ही नहीं आँखे भी होती है, इस खबर को पढ़कर राहत मिलेगी

25 फरवरी 2020 दिल्ली में एक गुट ने दीपक को मौत के घाट उतार दिया था, इसे दिल्ली का दंगा भी कहा जा सकता है। अनेक लोगों पर इस दंगे को भडकाने का आरोप लगा था लेकिन इसमें चार नाम बार-बार लिए जा रहे थे अनवर हुसैन, कासिम, शाहरुख और खालिद अंसारी यह वह नाम है जिसने दीपक को मौत के घाट उतार दिया था।

इस दंगे में करीब 30 लोगों की जान गई थी मरने वालों में सबसे ज्यादा संख्या हिन्दुओं की थी लेकिन हिन्दू चुप थे कुछ नहीं कर पाए। लेकिन एक दीवार ने वो कर दिखाया जो कोई कर नहीं सकता। इसलिए तो कह रहा हूँ दीवारों के आँखे अच्छी है –

दीवार की ऑट में छुपकर देखा सब कुछ


इस दंगे में दीपक की मौत की चर्चा खूब हुई उसे एक नाले में फेंक दिया गया था लोगों ने इसे भीड़ में मारे गये श्रेणी में रखा लेकिन सुनील नाम का एक युवक इस मौत का चश्मदीद था उसने जो देखा वह सब उसने कोर्ट में बताया और आज कोर्ट ने इन अनवर हुसैन, कासिम, शाहरुख और खालिद अंसारी आरोपियों को उनकी सजा भी सुनाने की तैयारी कर ली है।

सुनील ने जो बताया वह इस तरह था की यह चार आरोपी दीपक को पकड़ते है एक के बाद एक हमला करते जाते है जब तक उसकी जान नहीं जाती वह उसे छोड़ते नहीं है यह सब सुनील उस वक्त देख रहा था जब वह दीवार के पीछे छुपा हुआ था।

एक समाज की भीड़ का फायदा उठाया

कोर्ट में जज साहेब ने कहा की एक दंगे का नाम लेकर किसी से जाति-दुश्मनी निकाली गई थी दीपक को मारने वाले ही दंगे में शामिल थे और उन्होंने मिलकर अनेक हिन्दुओं को मौत के घाट उतारा था लेकिन सुनील की गवाही से उन्हें सजा अवश्य मिलेगी।

हालाँकि आरोपी लगातार अपने आप को निर्दोष बता रहे है उनके वकील भी काफी बड़े है और उन्हें बचाने का हर प्रयास कर रहे है लेकिन एक पुलिस अधिकारी ने कहा की कभी-कभी दीवारों के कान ही नहीं आँखे भी होती है और यह आँखे अच्छी है।

अब मिलेगा दीपक को न्याय

दिल्ली के दंगे ने एक घर का दीपक भुजा दिया था लेकिन सुनील की गवाही ने अब उसके ह-त्या-रों  को सजा दिलवाने की तरफ रुख कर लिया है। हालाँकि सुनील को गवाही बदलने का बार-बार कहा जा रहा है। सुनील ने कहा की मुझे एक समाज ही नहीं खुदका समाज भी अपने बयान बदलने के लिए कह रहा है।

लेकिन मैं तो वह बता रहा हूँ जो सच है और सच बोलना इतना बुरा नहीं है आज नहीं तो कल इन आरोपियों को सजा जरुर मिलेगी जो दीपक के साथ हुआ इसके बाद वह किसी और के साथ शायद ना हो लेकिन इसकी कोई गारंटी नहीं है। मैं सिर्फ प्रयास कर रहा हूँ और गवाही नहीं बदलूँगा। यह बात 25 फरवरी 2020 दिल्ली दंगो की है लेकिन यह केस आज भी चल रहा है हैरानी वाली बात है अभी तक आरोपियों को कोई सजा नहीं मिली है लेकिन सुनील उन्हें सजा दिलवाने तक चुप नहीं रहेगा।

खबरों पर पैनी नजर रखने के लिए हमें फॉलो करें और हर एक नई खबर रोज पढ़ें।

Latest Posts

Don't Miss