Friday, December 2, 2022

Latest Posts

सेना में सब लेफ्टिनेंट बनने के बाद गांव पहुंची बेटी के स्वागत में झूम उठा पूरा गांव

हमारे देश में एक समय में लोग बेटियों को

ज्यादा शिक्षित करने के लिए नहीं लिखते थे, लेकिन अब धीरे-धीरे लोग जाग रहे हैं और बेटियां भी बेटों की तरह हर क्षेत्र में अपना नाम रोशन कर रही हैं। राजस्थान की एक ऐसी बेटी है जिसने नौसेना में सब-लेफ्टिनेंट का दर्जा हासिल कर न सिर्फ अपना बल्कि पूरे गांव का नाम रोशन किया है। इस बेटी का नाम सुनीता सैनी है। नौसेना में अधिकारी के रूप में प्रशिक्षण लेकर सुनीता सैनी जैसे ही अपने पैतृक गांव लौटी, तो ग्रामीणों का सीना भी गर्व से चौड़ा हो गया और पूरे गांव वालों ने सुनीता का गर्मजोशी से स्वागत किया.

सुनीता प्रशिक्षण पूरा कर गांव लौटी थी

25 वर्षीय सुनीता सैनी का जनवरी 2021 के महीने में भारतीय नौसेना में चयन हुआ था। सुनीता सैनी 9 महीने के प्रशिक्षण के लिए मुंबई में थीं और 14 नवंबर को वह प्रशिक्षण पूरा करके अपने पैतृक गांव लौट आईं। बता दें कि सुनीता सैनी राजस्थान के झुंझुनू जिले की उदयपुरवाटी तहसील के ग्राम जोधपुरा की रहने वाली हैं. सुनीता सैनी के घर में उनके दो भाई-बहन भी हैं। बता दें कि सुनीता सैनी के पिता हजारी लाल सैनी भी भारतीय नौसेना में सेवारत थे लेकिन अब वह सेवानिवृत्त हो चुके हैं। हजारी लाल सैनी भी अपनी बेटी की इस सफलता से काफी स्तब्ध थे। ग्रामीणों ने किया जोरदार स्वागत सुनीता सैनी के अपने गांव लौटने की खबर ग्रामीणों को जैसे ही पता चली तो सभी ने सुनीता के स्वागत के लिए पांव पसारे.

सुनीता के जोरदार स्वागत के लिए

पूरे गांव में ही जोर-शोर से तैयारी की गई थी। सुनीता के आने पर सुनीता का ढोल बजाकर और पटाखे फोड़कर स्वागत किया गया। सुनीता को घर लाने के लिए घोड़े की व्यवस्था की गई थी। गांव के सभी लोगों ने फूलों की माला पहनाकर सुनीता का स्वागत किया और गायन व नृत्य कर सुनीता का स्वागत किया. आपको जानकर हैरानी होगी कि सुनीता के स्वागत के लिए करीब 5 किलोमीटर तक लोगों की भीड़ उमड़ी थी।


सोशल मीडिया यूजर्स दे रहे हैं शुभकामनाएं

अपने गांव के लोगों द्वारा अपने लिए इतनी खुशी देखकर सुनीता भी बहुत गदगद हो गई। यदि इस तरह बेटियों का सम्मान किया जाए तो निश्चित रूप से भविष्य में बेटियों के लिए एक बहुत ही उज्ज्वल भविष्य का रास्ता खुल सकता है। बेटियों की जीत पर उन्हें भी इसी तरह प्रोत्साहित किया जाना चाहिए ताकि समाज में बेटा-बेटी का भेद जल्द से जल्द खत्म हो सके और सभी मुख्यधारा से जुड़ सकें. सोशल मीडिया पर यह खबर वायरल होते ही सभी ने सुनीता सैनी को शुभकामनाएं दी और उक्त लोगों द्वारा किए गए स्वागत की सराहना की.

Latest Posts

Don't Miss